धन्यवाद

*** *** नवगछिया समाचार अब अपने विस्तारित स्वरूप "नव-बिहार समाचार" के रूप मे प्रसारित हो रहा है, आपके लगातार सहयोग से ही पाठकों की संख्या लगातार बढ़ते हुए दशहरा के मौके पर ही 10 लाख को पार कर चुकी है,इसके लिए आपका धन्यवाद। *** नव-बिहार समाचार के इस चैनल में अपने संस्थान का विज्ञापन, शुभकामना संदेश इत्यादि के लिये संपर्क करें राजेश कानोडिया 9934070980 *** ***

मंगलवार, 15 जनवरी 2013

सड़क किनारे खुले आम चलते हैं कसाई खाने, मांस-मछली की दुकानें

राजेश कनोडिया, नवगछिया | 
नवगछिया स्टेशन परिक्षेत्र में और उसके सामने तथा शहर की कई प्रमुख सड़कों के किनारे व चौराहे तथा स्कूलों के आस पास और रास्तों में खुले आम बकरे, मुर्गे और मछलियां काटी जा रही हैं। खून भी सड़क किनारे ही जमा होता है। स्थिति यह है कि इन अवैध रूप से मांस विक्रेताओं द्वारा
निर्देशों का पालन किया अथवा नहीं, कोई देखने वाला नहीं है।
बच्चों पर पड़ता है बुरा प्रभाव
जवाहर लाल नेहरू चिकित्सा महाविद्यालय अस्पताल मानसिक विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ. अशोक भगत ने बताया कि अगर बच्चों के सामने जानवरों को काटा जाए तो उनके मन पर विपरीत प्रभाव पड़ सकता है। वे हिंसक प्रवृति के भी हो सकते हैं। वहीं अनुमंडलीय अस्पताल नवगछिया के डॉ. सुधांशु कुमार ने बताया कि बीमार जानवरों का मांस खाने पर रोग होने की संभावना होती है। हालांकि उसे अच्छी तरह पका दिया जाय तो रोग से बचा जा सकता है।
स्वास्थ्य परीक्षण भी नहीं किया जाता
नवगछिया प्रखण्ड पशु चिकित्सक डा0 गौतम बताते हैं कि जिन जानवरों का वध करना है वे स्वस्थ हैं अथवा नहीं, इसकी जांच नहीं की जाती। जिससे कई तरह की बीमारियाँ होने की संभावना बनी रहती है |
नगर पंचायत की कोशिश हुई बेकार
नगर पंचायत नवगछिया के अध्यक्ष व उपाध्यक्ष द्वारा इस मामले में काफी कोशिश भी की गयी | लेकिन सब बेकार साबित रही | इस मामले में रेल प्रशासन और जिला प्रशासन को कारगर पहल करने की जरूरत है | तभी इस समस्या का समाधान संभव हो सकता है |

कोई टिप्पणी नहीं:

ताजा समाचार प्राप्त करने के लिये अपना ई मेल पता यहाँ नीचे दर्ज करें

संबन्धित समाचार

आभारनवगछिया समाचार आपका आभारी है। आपने इस साइट पर आकर अपना बहुमूल्य समय दिया। आपसे उम्मीद भी है कि जल्द ही पुनः इस साइट पर आपका आगमन होगा।

Translatore

ज्यादा पढे गये समाचार

घूमता कैमरा

सुझाव दें या सीधे संपर्क करें

नाम

ईमेल *

संदेश *

आभार

नवगछिया समाचार में आपका स्वागत है| नवगछिया समाचार के लिए मील का पत्थर साबित हुआ 24 नवम्बर 2013 का दिन। यह वही दिन है जिस दिन नवगछिया अनुमंडल की स्थापना हुई थी 1972 में। यह वही दिन है जिस दिन आपके इस चहेते नवगछिया समाचार ई-पेपर के पाठकों की संख्या लगातार बढ़ कर दो लाख हो गयी। नवगछिया, भागलपुर के अलावा बिहार तथा भारत सहित 54 विभिन्न देशों में नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों का बहुत बहुत आभार | जिनके असीम प्यार की बदौलत नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों की संख्या 20 मई 2013 को एक लाख के पार हुई थी। जो 24 नवम्बर 2013 को दो लाख के पार हो गयी थी । अब छः लाख सत्तर हजार से भी ज्यादा है। मित्र तथा सहयोगियों अथवा साथियों को भी इस इन्टरनेट समाचार पत्र की जानकारी अवश्य दें | आप भी अपने क्षेत्र का समाचार मेल द्वारा naugachianews@gmail.com पर भेज सकते हैं।